Breakup Shayari

Fursat m yaad rakhna ho to mat krna…,

Fursat m yaad rakhna ho to mat krna…,
Hum tanha zarur hai magar fazul nhi…,
Yu to kt rhee hai ab zindagi humri bhi…,
Magar intazar ussi ka hai hume aaj bhi…,

फुर्सत में याद करना हो तो मत करना
हम तन्हा ज़रूर है, मगर फज़ूल नही।
यु तो कट रही है अब ज़िन्दगी हमरी भी…,
मगर इंतज़ार उसी का है हमे आज भी…,

fursat_m_yaadein

Na jane kb unhone hume azma kar dek liya….,

Na jane kb unhone hume azma kar dek liya….,
Humne bhi zindagi me ek dhoka kha kr dek liya…,
Kya hua agr hum hue jo udas to…,
Us bedard ne to apna dil behla kr dek liya…,

न जाने कब उन्होंने हमे आज़मा कर देख लिया….,
हमने भी ज़िन्दगी में एक धोका खा कर देख लिया…,
क्या हुआ अगर हम हुए जो उदास तो…,
उस बेदर्द ने तो अपना दिल बहला कर देख लिया…,

न जाने कब उन्होंने हमे आज़मा कर देख लिया….,

Har kisi k naseed m kha likhi hoti hai chahtein…,

Har kisi k naseed m kha likhi hoti hai chahtein…,
Kuch log duniya m aate hai sirf tamhaio k liye…,
Sirf us ke pyar ke chahta heee to humari bhi thee…,
Bhula dia aaj unhone hume sirf apni bewafai ke liye…,

हर किसी के नसीब में कहा लिखी होती हे चाहतें
कुछ लोग दुनिया में आते हे सिर्फ तन्हाइयों के लिए.
सिर्फ उस के प्यार के चाहता ही तो हमारी भी थी…,
भुला दिए आज उन्होंने हमे सिर्फ अपनी बेवफाई के लिए…,

Har kisi k naseed m kha likhi hoti hai chahtein

Hasi ne ab mre labon pr thirkana chod dia…,

Hasi ne ab mre labon pr thirkana chod dia…,
Khwao ne ab mere palko par aana chod dia…,
Nahi aati ab to hichkiyan bhi hume…,
Shayad usne he hume yaad krna chod dia…,

हसी ने अब मेरे लबों पर थिरकना छोड़ दिए…,
खवाओ ने अब मेरे पलकों पर आना छोड़ दिए…,
नही आती अब तो हिचकियाँ भी,
शायद आप ने भी याद करना छोड़ दिया है.

Hasi ne ab mre labon pr thirkana chod dia

kaun khta hia ki musafir zakhmi nhi hote…,

kaun khta hia ki musafir zakhmi nhi hote…,
Raste gawaha hai bas kahbakhat gawahai nhi dete…,
Mohabbat ki adalat mein har gye mukadama apna hum bhi…,
Us bedard ki nafrat mein aaj humare alfazo ke shor kahi sunai nhi dete…,

कौन कहता है कि मुसाफिर ज़ख्मी नही होते
रास्ते गवाह है, बस कमबख्त गवाही नही देते
मोहब्बत की अदालत में हार गये मुक़दमा अपना हम भी…,
उस बेदर्द की नफरत में आज हमारे अल्फाज़ो के शोर कही सुनाई नहीं देते…,

kaun_khta_hai